शनिवार, 19 जनवरी 2019

प्रतिभा श्री की कविताएं



    प्रतापगढ़  में जन्मी प्रतिभा श्री ने अपना कर्मक्षेत्र आजमगढ़ चुना।  रसायनशास्त्र में परास्नातक के बाद एक सरकारी विद्यालय में शिक्षिका एवं विगत तीन वर्षों से लेखन कार्य मे सक्रिय । अदहन , सुबह सवेरे , जन सन्देश टाइम्स , स्त्रीकाल , अभिव्यक्ति के स्वर एवं गाथान्तर में लघुकथा व कविताएँ प्रकाशित । लघुकथा संग्रह अभिव्यक्ति के स्वर में  लघुकथाएं प्रकाशित

  जीवन की किसी भी गतिविधी में सौंदर्य की रचना तभी हो पाती है जब उसमें संतुलन हो। किसी भी तरह की क्षति सौंदर्य को नष्ट करती है । कविता में भी वही बात है। जिसने संतुलन को साध लिया वे ही अपना ऊंचा स्थान बनाने में सफल होते हैं। संतुलन को साधने में महारत हासिल करने वाली ऐसी ही एक युवा कवयित्री हैं जिन्होंने हाल के दिनों में अपनी महत्वपूर्ण उपस्थिति दर्ज कराई है । पुरुषों की निरंकुश पाश्विकता को इनकी कविताओं में बखूबी देखा जा सकता है। पुरवाई में स्वागत है युवा कवय़ित्री प्रतिभा श्री का उनकी कविताओं के साथ।

प्रतिभा श्री की कविताएं
 
1-और उस रात

अम्मा ने कहा
डरा कर गुड़िया
वह खिलखिला के हंस पड़ी !
बाबा ने कहा...
बबुनी डरा कर
उसने काल्पनिक मूँछो को ऐंठा
पिता की आंखों में देखा
किससे ?
पिता ने आँखे चुरा ली।
धप्प से....
पीठ पर धौल जमाई
बहुत देर तक हँसती रही।
पिता भी हँसे खूब ।
सब औरतों ने कहा ..
चुन्नी कस कर  बाँधा कर
उसने
उतार फेंकी

पड़ोसियों ने कहा
बहुत तेज है
इसकी हँसी
बहुत तेज है
इसकी चाल
खट् खट्
दौड़ती है
मोहल्के के
कैक्टस को
कांटे सा चुभती रहीं उसकी छातियाँ
फिर   ...,
एक पूरी रात...
उसके कलेजे की मछली
छटपटाती रही
और उस रात
लड़की ने
ना डरने की
एक बड़ी
कीमत चुकाई।


2-मैं कौन

अवनि पर आगमन के तत्क्षण
गर्भनाल  की गांठ पर
लिखा गया
शिलापट्ट
तुम्हारे नाम का
शिशुकाल से
मेरी यात्रा के अनगिनत पड़ावों पर
तत्पर किया गया
तुम्हारी सहधर्मिणी बनने को
उम्र की आधी कड़ियाँ टूटने तक
मैं ढालती रही स्वयं को
तुम्हारे निर्धारित साँचे में
मैं बनी
स्वयं के मन की नहीं
तुम्हारे मनमुताबिक

जो तुमको हो पसन्द वही बात करेंगे
तुम दिन को अगर रात कहो रात कहेंगे

तुम रंच मात्र ना बदले
मैं बदलती रही
मृगनयनी
चातकी
मोहिनी हुई
कुलटा
कलंकिनी
कलमुँही  कहाई
सौंदर्य ,
असौंदर्य के
सारे उपमान
समाहित हो मुझमें 
मेरी तलाश  में
भटकते घटाटोप अंधेरों में
थाम तुम्हारे यग्योपवीत का एक धागा
जहाँ हाथ को हाथ सुझाई न दे
करते चक्रण
तुम्हारी नाभि के चतुर्दिक
तुम्हारे
विशाल जगमगाते प्रासादों से
गुप्त अंधेरे कोटरों तक
मैं सहचरी से
अतिरंजित कामनाओं की पूर्ति हेतु वेश्या तक
स्वर्ग की अभीप्सा से नरक के द्वार तक
सोखती रही
तुम्हारी देह का कसैलापन
स्वयं को खोजा
मय में डूबी तुम्हारी आंखों में
हथेलियों के प्रकंपन में
दो देहों के मध्य
घटित विद्युत विध्वंश में
कि
किंचित नमक हो
और मुझे
अस्तित्व के स्वाद का भान हो
तुम्हारी तिक्तता से नष्ट होता गया  माधुर्य
तुम्हारी रिक्तता में समाहित हो
मैं शून्य हुई
मुझे ......!
मुझ तक पहुंचाने वाला पथ
कभी
मुझ तक ना आया ।
जल की खोज में भटकते
पथिक सी 
मेरी दौड़ रेत के मैदानों से
मृगमरीचिका तक
मेरे मालिक !
क्या मैं अभिशापित हूँ ?
तुम्हारी लिप्साओं की पूर्ति हेतु
मेरे उत्सर्ग को
कई युगों से
आज भी
खड़ी हूँ
तुम्हारी धर्मसभाओं में
वस्त्रहीन
और
तुम्हारा उत्तर है
मौन ।
संपर्क सूत्र-

मोबा0-08004937105

रविवार, 30 दिसंबर 2018

राजीव कुमार त्रिगर्ती की कविताएं -




        हिमाचल प्रदेश के सुदूर पहाड़ी गांव से कविताओं की अलख जगाए राजीव कुमार त्रिगर्ती की कविताएं किसी पहाड़ी झरने की तरह मंत्र मुग्ध कर देने के साथ आपको यथार्थ के धरातल सा वास्तविक आभास भी कराती हैं। कवि के कथनी और करनी में कोई फर्क नहीं है। बिल्कुल पहाड़ी नदियों की तरह निश्चल और पवित्र हैं इनकी कविताएं। गांव , नदी , पहाड़  ,जंगल , घाटियां नया आयाम देती हैं इनकी कविताओं को ।

   
     बकौल राजीव कुमार त्रिगर्ती - गांव से हूं ,आज भी समय के साथ करवट बदलते गांव से ही वास्ता है। जीवन का वह हिस्सा जब हाथ लेखनी पकड़ने के लिए बेताब थाए काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के माहौल में बीता। वाराणसी की खरपतवार और रासायनिक उर्वरक. रहित साहित्य की भूमि में कब कवित्व का बीज अंकुरित हुआ कुछ पता ही नहीं चला। भीतर के उद्गारों को अपने ढंग से व्यक्त कर पाने की हसरत से ज्यादा आत्मसंतुष्टि शायद ही कहीं होती हो। असल में पहाड़  ,जंगल , घाटियों , कलकलाती नदियां हैं तभी तो पहाड़ में प्रेम है। इनके होने से ही जीवन जटिल है तभी तो पहाड़ में पीड़ा है। यहां प्रेम और पीड़ा का सामांजस्य अनंत काल से सतत प्रवाहित है। प्रकृति के सानिध्य में सुख दुख के विविध रूपों को उभारना अच्छा लगता है। मेरे लिए यह बहुत है कि प्रकृति के सानिध्य में भीतर के उद्गारों को व्यक्त करने का एक खूबसूरत तरीका मिल गया है। भीतर के उद्गार को अपने ही शब्दों में व्यक्त करने के आनंद की पराकाष्ठा नहीं और यह आनंद ही मेरे लिए सर्वोपरि है। 
 
 राजीव कुमार त्रिगर्ती की कविताएं -


1- ऐसे ही


जब रोने को आता हूं
तो लगता है हंसा दोगी तुम
कुछ हंसी भरा सुनाकर
गुदगुदी लगाकर
या यूॅं ही बेताब मुस्कुराकर
और मैं चुपचाप हॅंसने लगता हूं,

जब सोने को आता हूं
तो लगता है उत्पन्न कर दोगी 
एक दीर्घ निःश्वास के साथ
सारे शरीर में सिरहन
और जगा दोगी तुम
एक आत्मिक अनुभूति तक,

जब खोने को आता हूं
तो लगता है मिला दोगी तुम
अपने बहाने मुझसे मुझको
अपने होने के एहसास भर से
भर देती हो अस्तित्व की नींव
और मैं लौट आता हूं
किसी अज्ञात दलदल से
अपनी देह को बचाता हुआ

ऐसे ही रात बीत जाती है
दिन होने को आता है
दिल रोने को आता है
बार-बार सोने को आता है
सोये-सोये खोने को आता है
दिन भर में एक भी पल
कहॉं कुछ होने को आता है
तुम्हारे न होने पर।

2-एक-दूसरे के लिए हम


एक-दूसरे को जानने समझने के लिए
यह कितना जरूरी है कि
हम चलें कुछ कदम साथ-साथ
आयें एक-दूसरे के पास
और इस सामीप्य में समझें
एक-दूसरे के अन्तर्मन
या समझें एक-दूसरे को समझभर,

एक-दूसरे को जानने समझने के लिए
यह कितना जरूरी है कि
हम गर्मजोशी के साथ करें
एक-दूसरे का स्वागत
करें आपस में खुलकर बात
वक्त-बेवक्त जब भी करें मुलाकात
एक दूसरे की सहमति-असहमति को
सम्मान के साथ करें अंगीकार,

यदि हम साथ-साथ
कदम नहीं बढ़ा सकते
एक-दूसरे को अन्तस् की बात
नहीं बता सकते
तो कम से कम
जब भी हों हम आमने-सामने
तो अदब से एक-दूसरे के लिए
सिर तो झुका सकते हैं
एक-दूसरे की ओर
चॉंदी का वर्क चढ़ी
मुस्कान तो उड़ा सकते हैं
ऊबड़-खाबड़ जिन्दगी में
एक-दूसरे के बहाने ही सही
सुकून तो ला सकते हैं।


संपर्क-


राजीव कुमार ‘‘त्रिगर्ती’’
गॉंव-लंघू, डाकघर-गॉंधीग्राम
तह0-बैजनाथ, जिला-कॉंगड़ा
हि0प्र0 176125
94181-93024

शनिवार, 15 दिसंबर 2018

जब भी मिल का सायरन बजता था : सुरेन्द्र कुमार




       04 अगस्त 1972 को अहमदपुर जिला सहारनपुर उ0प्र0 में जन्में सुरेन्द्र कुमार ने हाल के वर्षों में गजल विधा में एक अलग मुकाम हासिल किया है। आम आदमी की पीड़ा को बड़े सिद्दत से महसूस किया है और उसे अपनी गजलों में अद्भुत तरीके से पिराने की भरपूर कोशिश की है या इसको यूं कहे कि कवि ने जिस यथार्थ को जिया एवं भोगा है को अपनी गजलों में जिवंत कर दिया है।
      कवि इस दुर्दिन समय में भी आशा की किरण खोज लेता है चाहे उसे कितनी भी परेशानी क्यों न उठानी पडे। कवि की आंतरिक पीड़ा गजलों के माध्यम से आम पाठक के मन में गहरे तक पैठ कर रह-रह कर उद्वेलित व बेचैन करती है, जिसकी बानगी समझकर गया एक फकीर कोई  एवं जब भी मिल का सायरन बजता था  में बखूबी देखा जा सकता है। कवि ने सरल शब्दों में गझीन बिम्बों से गजलों की नई जमीन तैयार की है जिस पर आने वाले दिनों में गजलों की फसल लहलहलाने की सम्भावना और मजबूत हुई है। इनकी गजलों की एक-एक शब्दों और पंक्तियां की आवाजें बहुत दूर तक और बहुत दिनों तक गुंजती रहेंगी ऐसी उम्मीद है हमें। पुरवाई में स्वागत है युवा कवि सुरेन्द्र कुमार का ।

1-जब भी मिल का सायरन बजता था


जब भी मिल का सायरन बजता था
आंगन में पीपल का पत्ता झरता है

आखिर वो जंगल उजाड़ दिया जिसमें
मेरे मन का हिरन,कुलांचे भरता था

जिसके लिए मैं दर-दर भटकता था
वो दरीचा आंगन में खुलता था

मैंने उस राह पर चलना छोड़ दिया
जिसका हर मोड़ ,तबाही पर मुड़ता था

बरसों उस ग़ज़ल  की बहुत तारीफ़ हुई
जिसका हर शेर,ज़िदगी से जुड़ता था।


2- समझाकर गया एक फकीर कोई


समझाकर गया एक फकीर कोई
नहीं बेचना अपना जमीर कोई

ज़िन्दगी की भट्ठी में तपना पड़ता है
नहीं बदलती ,यूं ही,तकदीर कोई

न ठहरता,जब मन के पर लग गये हों
चाहे बांध ले, कितनी जंजीर कोई

तन पे झीनी चादर,मन बेबाक-सा
सदियों में पैदा होता , कबीर कोई

ढोता हूं पहाड़, ज़िदगी की शाम तक
अब कैसे करेगा काम, शरीर कोई।

सम्पर्क -
अहमदपुर जिला सहारनपुर उ0प्र0
मोबा0- 088658 52322

बुधवार, 5 दिसंबर 2018

पवन चौहान की बाल कविताएं


 आज पुरवाई में पढ़े चर्चित युवा रचनाकार पवन चौहान की कविताएं

                                                                     3 जुलाई 1978
शिक्षा -       बी0 एस0 सी0(नाॅन -मैडिकल), एम0 एस0 सी0 (मैथ्स)
पेशा - स्कूल शिक्षक टी0 जी0 टी0 (नाॅन -मैडिकल)
लेखन की शुरूआत:- वैसे 2001 में मेरा फीचर दैनिक भास्कर में प्रकाशित हुआ। यहीं से मेरे लेखन की शुरुआत भी हुई। इसके बाद तीन र्ष तक लिखा। फिर सात र्ष तक स्वास्थ्य खराब होने के कारण कुछ भी पढ़ और लिख न सका।
पत्रिकाओं में प्रकाशित कहानियां
वर्तमान साहित्य, कथाक्रम, विपाशा, विभोम स्वर, समहुत, शीराजा, साहित्य अमृत, अक्षर पर्व, हरिगंधा, जागरण सखी, मधुमती, मेरी सजनी, द संडे पोस्ट, अक्षर-खबर, शैल-सूत्र, जाहनवी, वीणा, कथा-समय, शुभ तारिका, सरोपमा, रु-ब-रु दुनिया, हिमप्रस्थ, युग मर्यादा, जगमग दीप ज्योति, जनप्रिय हिमाचल टूडे आदि।
बेब पत्रिकाएं- अभिव्यक्ति, प्रतिलिपि में कहानियां प्रकाशित।
पत्रिकाओं में प्रकाशित कविताएं
वागर्थ, वसुधा, विपाशा, बया, पाखी, कथाक्रम, जनपथ, युद्धरत आम आदमी, अक्षरपर्व, आकंठ, गाथांतर, कविता बिहान, यात्रा, अक्सर, रु-ब-रु दुनिया, हिमप्रस्थ, हिमभारती, हरिगंधा, रसरंग (दैनिक भास्कर), कौशिकी, अक्षर-खबर, शुभ तारिका, शब्द मंच, सरोपमा, पालिका समाचार, जगमग दीप ज्योति आदि।
बेब पत्रिका/ग्रुप - ई-पत्रिका इंडियारी और प्रतिलिपि आदि में कविताएं।
अनुवाद-कविताओं का तेलगु, नेपाली, पंजाबी में अनुवाद।
पत्रिकाओं में प्रकाशित बाल कहानियां
नंदन, बाल भारती, बालवाटिका, बालप्रहरी, बाल हंस, नन्हे सम्राट, बच्चों का देश, बालवाणी, बाल किलकारी, रीडर्स क्लब बुलेटिन, बालभूमि, बालभास्कर, देवपुत्र, रीजनल रिपोर्टर, बाल लेखनी, साहित्य अमृत, सोमसी, सरस्वती सुमन, बाल प्रभात, पुष्पवाटिका, अभिनव बालमन, अंतिम जन, दैनिक ट्रिब्यून, मध्यप्रदेश जनसंदेश (बाल रंग), समय सुरभि अनंत, आदि। 
बेब पत्रिकाएं-हस्ताक्षर, जय विजय पत्रिका आदि।
अनुवाद- बाल कहानी का उड़िया में अनुवाद।
विशेषः- 1.  र्ष 2015 में हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड की पांचवीं कक्षा की हिन्दी की पाठ्य पुस्तक और महाराष्ट्र के पाठ्यक्रम की सातवीं कक्षा में मेरी बाल कहानी (अनोखी होली) शामिल।
2. जम्मू-कश्मीर अकादमी की पत्रिका शीराजा’(हिन्दी) तथा हिमाचल प्रदेश की सूचना एवं जनसंपर्क विभाग की पत्रिका हिमप्रस्थकी अब तक की प्रकाशन यात्रा में पहली बार निकलने वाले बाल साहित्य विशेषांक प्रकाशन में विशेष सहयोग।
3. भारत के विभिन्न राज्यों के बाल कहानीकारों की पुस्तक के अंतर्गत हिमाचल प्रदेश की बाल कहानी का संपादन।


समाचार पत्र, पत्रिकाओं में प्रकाशित फीचर व लेख 
अहा! जिंदगी, हंस, शुक्रवार, आऊटलुक, मंतव्य, साहित्य अमृत, लोकायत, सहारा-समय, बाखली, हिमप्रस्थ, आवारा मुसाफिर, प्रणाम पर्यटन, मेरी सजनी, ये है इंडिया, मातृवंदना, शब्द मंच, सरोपमा, नई दुनिया (तरंग), देशबन्धु (अवकाश), एब्सल्यूट इंडिया, दैनिक ट्रिब्यून (रविवारीय), दैनिक हरिभूमि (रविवारीय भारती), मध्यप्रदेश जनसंदेश, दैनिक भास्कर, दैनिक जागरण, राष्ट्रीय सहारा, अमर उजाला, अजीत समाचार, पंजाब केसरी, नवभारत, प्रभात खबर, दिव्य-हिमाचल, आलोक फीचर्स (बिहार), गिरिराज (शिमला), शब्द-मंच आदि।
बिशेष:-1. महात्मा गांधी विश्वविद्यालय कोट्टयम, केरल के बी0 काॅम0 के पाठ्यक्रम में यात्रा संस्मरण शामिल।
2. र्ष 2014 में राष्ट्रीय सहारासमाचार पत्र की रविवारीय मैगजीन उमंगमें टूरनाम से पर्यटन पर नियमित स्तंभ लिखा।
इसके अलावा शिमला दूरदर्शन और शिमला आकाशवाणी से कहानी और कविता पाठ।
पुस्तकें:- (1) किनारे की चट्टान (कविता संग्रह), (2) भोलू भालू सुधर गया (बाल कहानी संग्रह)।
विभिन्न साझा संग्रह: (1) गुंजन सप्तक-4 (कविता संग्रह) (2) कविता अनवरत (कविता संग्रह), (3) ओस (हिमाचल के लघुकथाकारों का साझा संग्रह), (4) व्यंग्य के नव स्वर (व्यंग्य संग्रह)। 
संपादन- 
1) ‘दिव्यतामासिक पत्रिका तथा वेब पत्रिका हस्ताक्षरके बाल विशेषांकों का अतिथि संपादन।
2) ‘शैल सूत्र’ (नैनीताल) और नवरस मंजरीत्रैमासिक पत्रिकाओं में बाल साहित्य संपादन।
सम्मान:-फेगड़े का पेड़कविता को र्ष 2017 का प्रतिलिपि संपादकीय चयन कविता सम्मान, साहित्य मण्डल श्रीनाथद्वारा (राजस्थान) द्वारा बाल कहानी के लिएहिन्दी साहित्य भूषणसम्मान, बाल साहित्य में र्ष 2017 का हिमतरु राज्य सम्मान’ (कुल्लू), ”शब्द-मंच“ (बिलासपुर, हि0 प्र0 ) द्वारा लेखन के लिए सम्मान, हिम साहित्य परिषद (मण्डी, हि0 प्र0) द्वारा आयोजित कहानी प्रतियोगिता में मेरी लिखी पहली कहानी को 
पवन चौहान  की बाल कविताएं        
1- बच्चे

नटखट बच्चे प्यारे बच्चे
कितने सच्चे कितने अच्छे
बातों से अपनी सबको रिझाते
मस्ती में खेलते मजे से खाते
सबके दिलों में करते राज
कल की फिक्र न डर कोई आज
बात-बात में ये लड़ जाते
कुछ ही पलों में फिर मान जाते
नहीं जानते रंग भेद, जात-पात
मौज मनाते सबके साथ
तोतली बोली से सबको हंसाते
करते शरारत आते- जाते
कथा-कहानी चाव से सुनते
अपने-अपने सपने बुनते
आश्चर्य भरे इनके सवाल
करते अठखेलियां नित नये कमाल
कितने मासूम चंचल बच्चे
नटखट बच्चे प्यारे बच्चे
कितने सच्चे कितने अच्छे।



2- सुबह के मोती

निशा के अंधेरे में छुपकर
चुपके से गिरी घास पर
एक ने उसका झूला झुला
दूसरी बैठ गई पीठ पर
उगते सूरज की लाली से
जब काली चादर उठी थाल से
अनगिनत मोतियों से भरा था सागर 
नीले अंबर तले धरा पर
किरणों से श्रंृगार किया था
सतरंगी चुनर ओढ़ ली सर पर
सज संवर दुल्हन बनी
घर चली  अपने,  सूरज की डोली पर
मैंने छुना चाहा ओस को
डर कर गिर गई धरा पर
चकाचौंध कर दुनिया को
कुछ ही पल में  खत्म हुआ सफर
सूरज के घोड़े पर सवार सब
चली गईं फिर मिलने का वादा कर    
  
        
3-कम्प्यूटर

आओ बच्चो आओ
मेरे संग तुम मौज मनाओ
मैं दूंगा तुम सबको ज्ञान
एक बार जरा बटन दबाओ
तुम देखो मुझमें फिल्म या गीत
बना लो मुझको अपना मीत
कराऊंगा तुमको दुनिया भर की सैर
मेरी न किसी से दुश्मनी, न किसी से बैर
मुझमें चाहे खेलो खेल
दोस्तों को भेजो अच्छे-अच्छे, प्यारे ई-मेल
मुझसे रंग-बिरंगे चित्र बनाओ
दुनिया को तुम खूब सजाओ 
हर विषय का ले लो पुरा ज्ञान 
जब भी दिल करे, सुबह या शाम
मैं हूं हर जगह पर छाया
अब है मेरा जमाना आया
मैं विज्ञान की सर्वोत्तम देन
कर लो मुझसे कुछ भी गेन
दूंगा मैं हर सवाल का उत्तर
क्योंकि मैं हूं एक कम्प्यूटर।

संपर्क-
पवन चौहान 

गांव व डा0-महादेव

0-सुन्दर नगर ,मण्डी (हि0 प्र0)-175018

फोनः- 94185-82242, 98054-02242

गुरुवार, 15 नवंबर 2018

अमरपाल सिंह ‘ आयुष्कर ’ की कविताएं




  दैनिक जागरण, हिन्दुस्तान ,कादम्बनी,वागर्थ ,बया ,इरावती प्रतिलिपि डॉट कॉम , सिताबदियारा ,पुरवाई ,हमरंग आदि में  रचनाएँ प्रकाशित
2001  में  बालकन जी बारी संस्था  द्वारा राष्ट्रीय  युवा कवि पुरस्कार
2003   में बालकन जी बारी संस्था   द्वारा बाल -प्रतिभा सम्मान 
आकाशवाणी इलाहाबाद  से कविता , कहानी  प्रसारित
‘ परिनिर्णय ’  कविता शलभ  संस्था इलाहाबाद  द्वारा चयनित

 अमरपाल सिंह ‘ आयुष्कर ’ की कविताएं
 1- माँ
माँ तो आखिर माँ होती है
नित निदाघ - सा जलता जीवन
खोज रहा होता जब जलकन
अपने शीतल स्पर्शों से
ताप सभी पल में हर लेती
ममता का अंकुर बोती है
माँ तो आखिर माँ होती है
दे हाँथों का संबल अपने
जीवन का पथ दिखलाती है
अपने आशाओं की बलि कर
सपने   मेरे   खिलवाती  है
सारे सुख  मेरे  हिस्से  कर
अपने हिस्से  दुःख  ढोती है
माँ तो आखिर माँ होती है
बन कुम्हार आकार सँजोती
खट्टी - मीठी थपकी देकर
रोने  पर  रो देती  मेरे
हँसने पर मेरे  हँसती है
पल को मेरे मोती करने
अपने कितने कल खोती है
माँ तो आखिर माँ होती है

खुद खा लेती रूखा -सूखा
देख सके ना हमको भूखा
मेरे मन का ख्याल  हमेशा
कभी ना अपने मन का बूझा
पूरे घर की पीड़ा  हरती
रात -रात भर कब सोती है ?
माँ तो आखिर माँ होती है

कितने अरमानों से पाला
इक दिन साहेब लाल बनेगा
घोड़ी चढ़ दुल्हन लायेगा
पग -पग उसके साथ चलेगा
पर, घर का कोना बनकर माँ
आँसू  से  सपने  धोती  है
माँ तो आखिर माँ होती है
तेरे सुख में ही, मेरा सुख
सूनी  आँखें  कहती  हैं
आँचल के कोने में गुजरा
बचपन  ढूँढा  करती  है
इंतज़ार में थककर अकसर
वह चुपके, छुपके रोती है
माँ तो आखिर माँ होती है

सम्पूर्ण सृष्टि का कण पावन
माँ की महिमा का भास है
जीवन -रण में ,माँ विमल-विजय
हर हारे मन की आस है
समता ,ममता अखिल विश्व की
छाँव कहाँ माँ आंचल – जैसी ?
धधक रहे चूल्हे से निकली
माँ सोंधी रोटी  होती  है
माँ तो आखिर माँ होती है |


2-जब जी भरकर रो लेता हूँ !    

                              
जब जी भरकर रो लेता हूँ ,
थोड़े आँसू खो देता हूँ
और रुमालों से होती, आँखों की अनबन ,
तब थोड़ा हल्का होता मन
रेखाओं -सी आड़ी- तिरछी
सम्बन्धों की परिभाषा
कतराता हूँ, सबसे हाथ मिलाने में
जाने कौन लकीर उतारे ,
रिश्तों की सारी पहरन
आने दो सूरज को, भीगी गलियों  में
सीली-सीली हवा जरा सा कम होगी
छंट जायेगा पड़ा कुहासा देहरी का
होगी ख़त्म चिरागों के लौ की कम्पन
भीगे पल ने कह डाली सब मनबीती
पल विस्तृत जीवन का, बौना कर डाला
बोल कहाँ,नवजात सरीखा पाता है
दर्द समोए सदियों का यूँ मन - बचपन |

3 - जब भी अम्मा मुझे सुलाती है.....

कितने छांवों की गठरियाँ लेकर ,
धूप आँगन में मेरे आती है ,
जेठ की तप रही दुपहरी भी
गीत मधुमास लिए गाती है
फूल होंठों पे उंगलियाँ रखते
जब भी अम्मा मुझे सुलाती है


सम्भाले आज भी डगमग ,
वो   मेरे   पांवों   को
भांप   लेती  पलों   में ,
मन के  छुपे  भावों को
ठहाकों  में  उड़ा  देती  
वो धुंधली आँख के बादल
भरी गागर दुखों की माँ 
सदा मुझसे  छुपाती  है
निदरबन से बुला निदिया
पकड़  चंदा,  दिखा तारे 
सभी को जोड़कर  बहती  
वो रिश्तों की नदी प्यारे 
बने सागर, सकल जीवन
सदा हमको  सिखाती है
कटोरी दूध ,जी भरकर
बतासे की मिठासों से
दिखाकर डर कभी म्याऊं
कभी कौवा की दे झिड़की
भकाऊं को बुलाकर के
घुटुक मुझको कराती है
उठा   पुचकारती   है
धूल  करती साफ़ आंचल से
हँसाती जोर  खड़काकर
किंवाड़ों और सांकल से
कभी तितली उड़ा देती
ये कह नाजुक हैं पर उसके
कहानी खुद बना, झट से
तो लोरी को, कभी रटके
सुकूँ की नींद हो मेरी
मलय-सा गुनगुनाती है
हमारे स्वप्न गुल्लक को
भरा रखने की  खातिर ही
समय की धूप में तपतीं 
वो आँखें रीत जाती हैं
कभी माँ याद आती है
कभी माँ भूल जाती है
इसी लुक्का -छिपी में
जिन्दगी का सच बताती है |

संपर्क सूत्र- 

ग्राम- खेमीपुर, अशोकपुर , नवाबगंज जिला गोंडा , उत्तर - प्रदेश

मोबाईल न. 8826957462     mail-  singh.amarpal101@gmail.com